कहानी १६०: आशा का सहायक 

shining dove with rays on a dark

यूहन्ना १६

यीशु ने अपने शिष्यों के लिए एक सहायक भेजने का वायदा किया। यीशु की आत्मा उनके ह्रदय में आकर उसके राज्य के कार्य को करने के लिए उनकी अगुवाई करेगा और सामर्थ देगा।

यीशु ने कहा:
“’जब वह सहायक तुम्हारे पास आयेगा जिसे मैं परम पिता की ओर से भेजूँगा, वह मेरी ओर से साक्षी देगा। और तुम भी साक्षी दोगे क्योंकि तुम आदि से ही मेरे साथ रहे।'” यूहन्ना १५:२६

आत्मा के दूत इस श्रापित दुनिया में बनने का मतलब है कि उसका परिणाम भी भुगतना पड़ेगा। अन्धकार के लोग और शैतानी ताक़तें ज्योति में चलने वाले लोगों के विरोध में खड़े होंगे। यीशु चाहता था कि उसके चेले तैयार रहें, वे समझ सकें कि यह सब क्या हो रहा है।

उसने कहा:
“’ये बातें मैंने इसलिये तुमसे कही हैं कि तुम्हारा विश्वास न डगमगा जाये। वे तुम्हें आराधनालयों से निकाल देंगे। वास्तव में वह समय आ रहा है जब तुम में से किसी को भी मार कर हर कोई सोचेगा कि वह परमेश्वर की सेवा कर रहा है। वे ऐसा इसलिए करेंगे कि वे न तो परम पिता को जानते हैं और न ही मुझे। किन्तु मैंने तुमसे यह इसलिये कहा है ताकि जब उनका समय आये तो तुम्हें याद रहे कि मैंने उनके विषय में तुमको बता दिया था।'” यूहन्ना १६:१-४

चेलों के बारे में सोचिये जब वे यीशु को सुन रहे थे। जो बातें वह उन्हें बता रहा था वे उनसे बहुत भिन्न थीं जो होने वाली थीं। लगभग एक घंटे पहले, वे बहस कर रहे थे कि उनमें से कौन सबसे महान होगा। अब वे इस बात को सीख रहे थे कि भविष्य में उनके लिए कोई भी सम्मान और महिमा नहीं है। यीशु के वचन को फ़ैलाने वालों के लिए बहुत ही चुनौती भरा जीवन होगा जहां विरोध और कष्ट भी सहना होगा। पवित्रा आत्मा चेलों कि अगुवाई करेगा जब गवाही देने के लिए उन्हें सताया जाएगा और मृत्यु भी दी जाएगी।

जब चेलों ने यह समझा कि उनके स्वामी के पीछे चलने कि कीमत क्या होती है, वे यह भी समझ रहे थे कि चाहे वे उसे नहीं देख पाएंगे, उन्हें ऐसे ही उसके पीछे चलते रहना होगा।

यीशु ने कहा:
“‘किन्तु अब मैं उसके पास जा रहा हूँ जिसने मुझे भेजा है और तुममें से मुझ से कोई नहीं पूछेगा,‘तू कहाँ जा रहा है?’ क्योंकि मैंने तुम्हें ये बातें बता दी हैं, तुम्हारे हृदय शोक से भर गये हैं। किन्तु मैं तुम्हें सत्य कहता हूँ इसमें तुम्हारा भला है कि मैं जा रहा हूँ। क्योंकि यदि मैं न जाऊँ तो सहायक तुम्हारे पास नहीं आयेगा। किन्तु यदि मैं चला जाता हूँ तो मैं उसे तुम्हारे पास भेज दूँगा। और जब वह आयेगा तो पाप, धार्मिकता और न्याय के विषय में जगत के संदेह दूर करेगा। पाप के विषय में इसलिये कि वे मुझ में विश्वास नहीं रखते, धार्मिकता के विषय में इसलिये कि अब मैं परम पिता के पास जा रहा हूँ। और तुम मुझे अब और अधिक नहीं देखोगे। न्याय के विषय में इसलिये कि इस जगत के शासक को दोषी ठहराया जा चुका है।'” यूहन्ना १६:५-११

“’मुझे अभी तुमसे बहुत सी बातें कहनी हैं किन्तु तुम अभी उन्हें सह नहीं सकते। किन्तु जब सत्य का आत्मा आयेगा तो वह तुम्हें पूर्ण सत्य की राह दिखायेगा क्योंकि वह अपनी ओर से कुछ नहीं कहेगा। वह जो कुछ सुनेगा वही बतायेगा। और जो कुछ होने वाला है उसको प्रकट करेगा। वह मेरी महिमा करेगा क्योंकि जो मेरा है उसे लेकर वह तुम्हें बतायेगा। हर वस्तु जो पिता की है, वह मेरी है। इसीलिए मैंने कहा है कि जो कुछ मेरा है वह उसे लेगा और तुम्हें बतायेगा।'” यूहन्ना १६:१२-१५

“’कुछ ही समय बाद तुम मुझे और अधिक नहीं देख पाओगे। और थोड़े समय बाद तुम मुझे फिर देखोगे’।’” यूहन्ना १६:१६

चेले नहीं समझ पाये कि यीशु क्या कह रहे हैं, सो वे आपस में चर्चा करने लगे।  तब यीशु ने कहा:

“’क्या तुम मैंने यह जो कहा है, उस पर आपस में सोच-विचार कर रहे हो,‘कुछ ही समय बाद तुम मुझे और अधिक नही देख पाओगे।’ और ‘फिर थोड़े समय बाद तुम मुझे देखोगे?’ मैं तुम्हें सत्य कहता हूँ, तुम विलाप करोगे और रोओगे किन्तु यह जगत प्रसन्न होगा। तुम्हें शोक होगा किन्तु तुम्हारा शोक आनन्द में बदल जायेगा। जब कोई स्त्री जनने लगती है, तब उसे पीड़ा होती है क्योंकि उसकी पीड़ा की घड़ी आ चुकी होती है। किन्तु जब वह बच्चा जन चुकी होती है तो इस आनन्द से कि एक व्यक्ति इस संसार में पैदा हुआ है वह आनन्दित होती है और अपनी पीड़ा को भूल जाती है। सो तुम सब भी इस समय वैसे ही दुःखी हो किन्तु मैं तुमसे फिर मिलूँगा और तुम्हारे हृदय आनन्दित होंगे। और तुम्हारे आनन्द को तुमसे कोई छीन नहीं सकेगा।  उस दिन तुम मुझसे कोई प्रश्न नहीं पूछोगे। मैं तुमसे सत्य कहता हूँ मेरे नाम में परम पिता से तुम जो कुछ भी माँगोगे वह उसे तुम्हें देगा। अब तक मेरे नाम में तुमने कुछ नहीं माँगा है। माँगो, तुम पाओगे। ताकि तुम्हें भरपूर आनन्द हो।'” यूहन्ना १६:१९ब-२४

“’मैंने ये बातें तुम्हें दृष्टान्त देकर बतायी हैं। वह समय आ रहा है जब मैं तुमसे दृष्टान्त दे-देकर और अधिक समय बात नहीं करूँगा। बल्कि परम पिता के विषय में खोल कर तुम्हें बताऊँगा। उस दिन तुम मेरे नाम में माँगोगे और मैं तुमसे यह नहीं कहता कि तुम्हारी ओर से मैं परम पिता से प्रार्थना करूँगा। परम पिता स्वयं तुम्हें प्यार करता है क्योंकि तुमने मुझे प्यार किया है। और यह माना है कि मैं परम पिता से आया हूँ। मैं परम पिता से प्रकट हुआ और इस जगत में आया। और अब मैं इस जगत को छोड़कर परम पिता के पास जा रहा हूँ।’” यूहन्ना १६:२५-२८

इन शब्दों ने उन्हें प्रभावित किया। चेलों के दिमाग में कुछ आने लगा। उन्होंने कहा:
“’देख अब तू बिना किसी दृष्टान्त को खोल कर बता रहा है। अब हम समझ गये हैं कि तू सब कुछ जानता है। अब तुझे अपेक्षा नहीं है कि कोई तुझसे प्रश्न पूछे। इससे हमें यह विश्वास होता है कि तू परमेश्वर से प्रकट हुआ है।’”

अब वे समझ गए थे। परन्तु जो उन्हें वह कोई पद या अधिकार नहीं था। उन्हें अपनी सिद्धता या सिद्ध  नहीं प्राप्त हुई थी। उनके लिए महत्वपूर्ण यह था कि वे यीशु को पाएं। उस पर  सच्चाई से विश्वास करें। और वे जानते हैं कि उन्हें मिला क्यूंकि यीशु उनके साथ सहमत थे।

यीशु ने इस पर उनसे कहा,
“’क्या तुम्हें अब विश्वास हुआ है? सुनो, समय आ रहा है, बल्कि आ ही गया है जब तुम सब तितर-बितर हो जाओगे और तुम में से हर कोई अपने-अपने घर लौट जायेगा और मुझे अकेला छोड़ देगा किन्तु मैं अकेला नहीं हूँ क्योंकि मेरा परम पिता मेरे साथ है। मैंने ये बातें तुमसे इसलिये कहीं कि मेरे द्वारा तुम्हें शांति मिले। जगत में तुम्हें यातना मिली है किन्तु साहस रखो, मैंने जगत को जीत लिया है।’” यूहन्ना १६:३१-३३

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s